नाबार्ड ,पीएफआरडीए राजभाषा अधिकारी: रोजगार का एक बेहतरीन विकल्प, जानें कैसे करें तैयारी डॉ. ऋतु जोशी से!

0
52

हिंदी भाषा में रोजगार  की अपार संभावनाएँ हैं। इस समय अनेक ऐसे क्षेत्र हैं जहाँ हिंदी का अध्ययन करने वाले युवा अपना भविष्य सँवार सकते हैं। राजभाषा अधिकारी भारतीय केंद्र सरकार के कार्यालयों में हिंदी अनुवाद के अलावा राजभाषा हिंदी के अन्य कामकाज जैसे हिंदी दिवस, हिंदी पखवाड़ा मनाना, हिंदी कार्यशालाओं का आयोजन करना, गृह पत्रिका का संपादन करना, हिंदी तिमाही बैठकों का आयोजन, राजभाषा निरीक्षण आदि कार्य करते है। राजभाषा अधिकारी पदों का सृजन राजभाषा विभाग के आदेशानुसार हर कार्यालय में किया जाता है।

राजभाषा अधिकारी को हिंदी तथा संस्कृत भाषा का गहन ज्ञान होना चाहिए जिससे कि बैंको में दिन-प्रतिदिन होने वाले कार्यो में हिंदी भाषा की उपेक्षा न हो।

राजभाषा अधिकारी के कार्य 

राजभाषा अधिकारी  बैंक में हिंदी के प्रचार के लिए पूर्णतया  जिम्मेदार होता है। बैंक में एक राजभाषा अधिकारी के   निम्नलिखित  कार्य होते हैं –

  • दस्तावेजों का हिंदी में अनुवाद: राजभाषा अधिकारी की मुख्य जिम्मेदारियो में से एक बैंकों के आधिकारिक दस्तावेजों का हिंदी में अनुवाद करना है। बैंक द्वारा अपनी सभी शाखाओं में परिचालित परिपत्र (circulars) और नोटिस अंग्रेजी और हिंदी दोनों में भेजी जाएं, यह सुनिश्चित करना राजभाषा अधिकारी की जिम्मेदारी है।
  • प्रशिक्षण कार्यक्रम (Training Programmes) की व्यवस्था करना: राजभाषा अधिकारी की दूसरी महत्वपूर्ण जिम्मेदारियों में बैंक के अधिकारियों के लिए नियमित अन्तराल पर प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करना है  ताकि बैंक के अधिकारी देश की आधिकारिक भाषा का अपने दैनिक कार्यो के लिए अधिक से अधिक उपयोग कर सकें।
  • राजभाषा का प्रचार:  राजभाषा अधिकारी की भर्ती का मुख्य उद्देश्य यह देखना है कि देश की आधिकारिक भाषा का इस्तेमाल सुचारू रूप से किस प्रकार से हो । यह सब सुनिश्चित करना राजभाषा अधिकारी का ही कार्य हैं।    

आइए जानते हैं कि इसकी तैयारी कैसे करें ! 

राजभाषा अधिकारी के लिए योग्यता एवं प्रश्न प्रारूप 

 यदि आप हिंदी विषय में परास्नातक हैं और स्नातक स्तर पर एक विषय के रूप में अंग्रेजी एवं संस्कृत विषय  का भी अध्ययन किया है तो राजभाषा अधिकारी के रूप में आप अपने करियर को पंख लगा सकते हैं। यहाँ आपको ऊँचे वेतनमान के साथ हिंदी भाषा के क्षेत्र में कार्य करने का अच्छा अवसर मिलता है। 

क्रम संख्या NABARD PFRDALIC AAO
आयु  21 से 30 वर्ष 21 से 30 वर्ष 21 से 30 वर्ष 
योग्यता  स्नातकोत्तर– हिन्दी, संस्कृत डिप्लोमा – अनुवाद  
स्नातक– हिन्दी मुख्य विषय 
स्नातकोत्तर– हिन्दी, अंग्रेजी 
स्नातक– संस्कृत, अंग्रेजी, अर्थशास्त्र, वाणिज्य के साथ हिन्दी विषय 
स्नातकोत्तर– हिन्दी, अंग्रेजी 
स्नातक- हिन्दी, अंग्रेजी, संस्कृत  
प्रश्नों के प्रकार  30 वस्तुनिष्ठ प्रश्न 50 अंक  
4 व्याख्यात्मक प्रश्न 50 अंक        

कुल अंक- 100             
50 वस्तुनिष्ठ प्रश्न 100 अंक     

कुल अंक- 100 
30 वस्तुनिष्ठ प्रश्न 90 अंक 

कुल अंक- 90  

इस प्रकार नाबार्ड में वस्तुनिष्ठ प्रश्नों के साथ व्याख्यात्मक प्रश्न भी आते हैं जो कि लगभग 50 अंक के होते हैं लेकिन अन्य राजभाषा परीक्षा में केवल वस्तुनिष्ठ प्रश्न ही आते हैं ।

राजभाषा परीक्षा के लिए क्या पढ़ें

राजभाषा परीक्षा के लिए राजभाषा नियम अधिनियम, राजभाषा हिन्दी का सनवैधानिक रूप, हिन्दी से अंग्रेजी अनुवाद, बैंकिंग शब्दावली  इत्यादि का अध्ययन आवश्यक है । 

NABARD PFRADA LIC AAO 
वस्तुनिष्ठ प्रश्न राजभाषा हिन्दी संवैधानिक रूप राजभाषा हिन्दी संवैधानिक रूप राजभाषा हिन्दी (संवैधानिक रूप) 
राजभाषा नियम अधिनियम राजभाषा नियम अधिनियम राजभाषा नियम अधिनियम 
हिन्दी से अंग्रेजी अनुवाद (शब्द, वाक्य) हिन्दी से अंग्रेजी अनुवाद हिन्दी से अंग्रेजी अनुवाद 
अंग्रेजी से हिंदी अनुवाद अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद अंग्रेजी से हिन्दी अनुवाद 
बैंकिंग शब्दावली विधिक शब्दावली (सामाजिक सुरक्षा, पेंशन, प्रशासनिक, पूंजी बाजार, पेंशन) बैंकिंग शब्दावली 
व्याख्यात्मक प्रश्न अपठित गद्यांश – – 
निबंध, सारांश लेखन , टिप्पणी लेखन, पत्र लेखन – – 

उपरोक्त पाठ्यक्रम से  परीक्षा उत्तीर्ण करने के पश्चात आपको साक्षात्कार के लिए बुलाया जाएगा जहां आपसे पूछा  जा सकता है कि राजभाषा अधिकारी के रूप में आप हिन्दी भाषा का कैसे प्रचार एवं  विकास करेंगे । आपको बैंकिंग सेक्टर के विषय में कितनी जानकारी है ,बैंकिंग क्षेत्र के कुछ विषयों पर आपका ज्ञान देखा जा सकता है इत्यादि । 

इस प्रकार  आपको हिन्दी भाषा का कार्यालयी ज्ञान   होना बहुत आवश्यक है । 

राजभाषा परीक्षा हेतु सफलता के  सूत्र

इस परीक्षा हेतु आपको भाषा संबंधित सभी विषयों का पूर्ण ज्ञान होना  चाहिए । अध्ययन में निरन्तरता हो तथा समय का पूर्ण सदुपयोग करना चाहिए  साथ ही पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों को जरूर हल करें ।  ixambee के माक टेस्ट भी निरंतर हल करते रहें । इससे आपकी लेखन क्षमता तो बदेगी ही साथ ही आप कम समय में अधिक प्रश्न हल कर सकेंगे । ixambee के राजभाषा संबंधित विडिओ भी  देखते रहें जिस से आपको विषय का और बेहतर  ज्ञान हो सके ।

यह भी पढ़ें

कम समय में आई बीपीएस आरआरबी बैंक परीक्षा की तैयारी कैसे करें ? महत्वपूर्ण टिप्स- जानिए डॉ. ऋतु जोशी से

हिन्दी दिवस विशेष: भारत की राजभाषा के रूप में हिन्दी
5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments